Home साहित्य लोगों ने दोस्त बनकर इम्तिहान लिया

लोगों ने दोस्त बनकर इम्तिहान लिया

3537
1
इम्तिहान

लोगों ने दोस्त बनकर इम्तिहान लिया
तवज्जो नहीं दी तो परेशान किया

सोचते थे कि उनके कहने से तरीका बदल दूँ
उनकी ग़लतफहमियों ने बड़ा हैरान किया

खंजर सी चुभती हुई बदज़ुबानी करते हैं
मैने भी माफ़ करके एहसान किया

सोचा था की माफी से संभल जाएँगे
मगर अब बेगैरत इरादों को पहचान लिया

मैं तो सीधा सादा सा वजूद रखता था
बेशर्मी से मेरी शक्सियत को बदनाम किया

शराफ़त के नशे ने खोखला कर दिया
हमने भी अब जंग का ऐलान किया

माफी का सबब नहीं कि बदतमीज़ी भूल जाओ
अपनी हरकतों से रिश्तों को सुनसान किया

ग़लतियाँ दोहराने की गुंजाइश ख़तम है
सबक सिखाने का तरीका जान लिया

Facebook Notice for EU! You need to login to view and post FB Comments!

Comments are closed.