Home साहित्य भूख सर्दी से कम नहीं

भूख सर्दी से कम नहीं

381
1
Mother prepares food
भूख सर्दी से कम नहीं

वो ठिठुरता हुआ कूड़ा बीनता है सर्दी में
उसे पता है कि भूख सर्दी से कम नहीं

कहां सुनवाई होती है गरीब की यहां पर
उनका दर्द समझ पाएं इतना गुर्दे में दम नहीं

मजदूर के हाथों से धरती में सोना उगता है
ये जगजाहिर सच्चाई है, कोई भरम नहीं

पैर फट गए उसके रिक्शा चलाते चलाते
और मोल भाव करने में हमको जरा भी शर्म नही

उसकी ख्वाहिश अपने परिवार का भरण पोषण है
सोने को एक पुरानी दरी है, कोई मखमल नहीं

दुखों को झेलकर अपनी हिम्मत खुद जुटाता है
दिल में बहुत दर्द है मगर आंखें उसकी नम नहीं

अपनी मेहनत से वो खेतों पर खुशहाली लाता है
खुद्दार है देश का कृषक, नेताओं सा बेशर्म नहीं

Comments are closed.