sirauna

होती है खामोशी जब खता अपनी हो

होती है खामोशी जब खता अपनी हो इल्ज़ाम दूसरों पर हो तो हंगामा होता है उसके ज़हन से ये बात उतरी नहीं अभी तक कि इश्क़ मे...
1.5-Billion-Year-Old-Water

पृथ्वी पर 1.5 बिलियन वर्ष पुराना पानी मिलने का दावा

वैज्ञानिकों ने पृथ्वी पर पुराना पानी मिलने का दावा किया है । यह 1.5 बिलियन वर्ष पुराना पानी कनाडा के ओंटारियो...
River

सिरौना गाँव की एक अविस्मरणीय यात्रा : कुछ विचार एक प्रवासी की नजर...

मोतिहारी जिले का एक मनोरम गाँव "सिरौना" जिसका अपना एक इतिहास है। कभी इतिहास के पन्नों को खंगालेंगे तो इस गाँव का दर्शन आपको...
Broken Heart

मुकम्मल भी हुआ तो क्या हुआ

मुकम्मल भी हुआ तो क्या हुआ ये इश्क़ है अपनी नादानी कहां छोड़ता है कभी तो खयालों को बसाता है और कभी सारे सपनो को तोड़ता है पन्ने...
Village Life

गाँव: जहाँ जीवन सिर्फ बसता ही नहीं खिलखिलाता भी है

मेरी उम्र अमूमन 5 साल तो बढ़ ही गयी होगी क्योंकि छठ पूजा के अवसर पर गाँव के प्राकृतिक एवं प्रदुषणमुक्त वातावरण में लगभग...
Ficus tree

मिलता नहीं है यारों मंज़िल का निशां

मिलता नहीं है यारों मंज़िल का निशां कहाँ पर आसमान और ज़मीन होते हैं फुर्सत नहीं है ज़िन्दगी में, लेकिन झमेला है वक़्त के तेवर भी बड़े...
Politeness

विनम्रता

Man standing on the beach

खाक बड़ा था ये समंदर भी

खाक बड़ा था ये समंदर भी एक बूंद भी तिश्नगी इस से नहीं बुझी बढ़ाए थे अपने कदम कि रास्ते मिलेंगे पर जाने क्यों अपनी मंजिलें नहीं...
Ravish

वामपंथ की मरणासन्न पत्रकारिता

पत्रकारिता में स्वयंभू शिखर पुरुष कहलाने हेतु रविश कुमार की मानसिकता एक ऐसे कुंठित व्यक्ति की तरह हो चुकी है जो न...
1000-years-old-remedy

वैज्ञानिकों ने एक एंग्लो-सेक्सन पांडुलिपि से 9 वीं शताब्दी के सूत्र को नेत्र संक्रमण...

वैज्ञानिकों ने एक एंग्लो-सेक्सन पांडुलिपि से 9 वीं शताब्दी के सूत्र को फिर से बनाया। इस प्राचीन नेत्र संक्रमण उपचार ...
[td_block_social_counter custom_title=”STAY CONNECTED” facebook=”tagdiv” twitter=”tagdivofficial” youtube=”tagdiv” open_in_new_window=”y” border_top=”no_border_top”]

FEATURED

MOST POPULAR

ये धूप चटक होती है

ये धूप चटक होती है यूं सर्द गरम होती है अब शाम की फुहारों में दिन रात जलन होती है यूं शहर भी सूना पड़ा ये दर्द भी दूना...

LATEST REVIEWS

दिल करता है खोजबीन कि कुछ मिल जाए

दिल करता है खोजबीन कि कुछ मिल जाए सुकून न सही मंजिल ही मिल जाए अपने दायरे में चंद सपने हैं यारों गुजारिश है सच में मिल...

कद्र कोई करता नहीं इन गजलों की यारों

कद्र कोई करता नहीं इन गजलों की यारों सब खिल्ली उड़ाने का जरिया समझते हैं मैं अगर उनसे प्रेम से बात भी करूँ तो फिर भी...

LATEST ARTICLES

error: Content is protected !!