Home साहित्य होती है खामोशी जब खता अपनी हो

होती है खामोशी जब खता अपनी हो

257
0
sirauna

होती है खामोशी जब खता अपनी हो
इल्ज़ाम दूसरों पर हो तो हंगामा होता है

उसके ज़हन से ये बात उतरी नहीं अभी तक
कि इश्क़ मे कोई पागल नहीं दीवाना होता है

अब आँखों से इश्क का इज़हार नहीं होता
उसे तो घुटनो मे बैठकर जताना होता है

इंसान की तरक्की से इंसान ही खुश नहीं
सबको तो दूसरों को नीचा दिखाना होता है

हसरत तो ज़िंदगी भर साथ रहने की है
मरने-मारने का दावा तो बहाना होता है

लोग आपकी तारीफ भी तानों से करते है
मकसद उनका सिर्फ़ आपको गिराना होता है

कौन है जो ता-उम्र पाक साफ रहता है
एक दिन सभी को कीचड़ मे नहाना होता है

सबके गुरूर मिट्टी मे मिल जाते हैं यारों
खामँखा फिर लोगों को क्यों दिखाना होता है

जिसने कोशिश ही नहीं की उसको क्या कहें हम
समंदर में डूबकर ही खुद को पार कराना होता है

कुछ फैसले जिन्होंने मुझे केवल तकलीफ दी
उनकी ज़िम्मेदारी को खुद के कंधे पर चढ़ाना होता है

जानता हूँ कि अतीत में बहुत सी गलतियां हुई मुझसे
मगर उनसे सीख कर ही कोई सयाना होता है

कुँए में पड़े रहने वालों कभी नहीं जान पाएंगे
कि असली मज़ा तो सागर में लहराना होता है

नुक्सान और फायदे तो ज़िन्दगी के हिस्से हैं दोस्तों
मगर कोशिश को छोड़ना नहीं, दोहराना होता है

मेरी आदत नहीं कि दूसरों पर तोहमत लगाऊं
अपना फलसफा तो सबको हँसाना होता है