Home साहित्य जुस्तजू

जुस्तजू

423
1
Rose flower
जुस्तजू

मुझे नहीं तो मेरे एहसास को तवज्जो दे
तुझे देखा है मैंने रोज़ खवाबों में

तुझे देख गली से जब मुड़ना हुआ
कीचड़ सन गया था मेरी जुराबों में

हैरान होकर जब तुझे निहारता हूं
सोचता हूं काँटों को ओट है गुलाबों में

सवाल तो जाने कितने अरसे से पूछते हैं
पर तस्सली नहीं मिलती जवाबों में

अँधेरा हर जगह पसरा हुआ है आजकल
और चींटी भर रौशनी भी नहीं आफ़ताबों में

चाँद सिरे से थोड़ी चांदनी बिखेरता है
मगर बत्तियां बुझ चुकी है चरागों में

जीने की जुस्तजू दर्द से होकर गुज़रती है
सांसों का क़र्ज़ बोया है ज़िन्दगी के बाग़ों में

Comments are closed.