Home साहित्य कद्र कोई करता नहीं इन गजलों की यारों

कद्र कोई करता नहीं इन गजलों की यारों

418
0
Man
कद्र कोई करता नहीं इन गजलों की यारों

कद्र कोई करता नहीं इन गजलों की यारों
सब खिल्ली उड़ाने का जरिया समझते हैं

मैं अगर उनसे प्रेम से बात भी करूँ तो
फिर भी वो लोग मुझे छलिया समझते हैं

मैंने अपनी पलकों में कितने समंदर समेटे हैं
पर वो हैं कि अश्कों को मेरे दरिया समझते हैं

मैंने उनसे ईमानदारी का हिसाब क्या माँगा
वो लोग तो मुझे अब ठेठ बनिया समझते हैं

अब पहले सा नाज़ुक नहीं रहा मेरा शरीर
जो लोग इसको इसको नन्ही कलियाँ समझते हैं

मेरे चर्चे चौपालों, चौराहों और देश विदेश में है
और दुश्मन है कि चारदीवारी को दुनिया समझते हैं

उस ठिकाने पर मेरे कदम अब कभी नहीं जाते
जिन्हे लोग गलतफहमी में मेरी गलियां समझते हैं

तुम्हे ज़रूर शौक होगा लज़ीज दावत उड़ाने का
हम तो नमक और रोटी को भी बढ़िया समझते हैं