Home साहित्य लापरवाह

लापरवाह

157
1
careless
लापरवाह

मैंने तो सिर्फ तुझे जीने की हिदायतें दी थी
मेरा डांटना तेरे लिए कोई ज़हर नहीं है

मिट्टी की सौंधी खुशबू पसंद है तो क्या करें
ये मेरा गांव है तेरा कोई शहर नहीं है

कितना भी समझा लो ढाक के तीन पात रहेंगे
मेरी बातों का तुझ पर कोई असर नहीं है

अपने खाने को तो कुत्ता भी जुगाड कर लेता है
और यहां हमसफर को मेरी रत्ती भर फिकर नहीं है

दूसरों ने गाली दी तो मैंने उनको चुप कराया
तेरे पास तो बोलने की भी अकल नहीं है

तू शोशेबाजी में अपना पूरा समय खराब करेगा
फिर ऐसी जिंदगी की तो कोई बसर नहीं है

मेरी कुटिया में नमक पानी और सिर्फ रोटी मिलेगी
ये मेरी झोपडी है तेरे बाप का घर नहीं है

भगवान भी तेरी हरकतों पर हंसता होगा रोज
तुझे अपने जिंदगी के लक्ष्य की कोई खबर नहीं है

रहना लापरवाह ऐसे ही, बाद में फिर पछतावा होगा
अभी भी संभल जा, ये खेलने की उमर नहीं है

Comments are closed.