Home साहित्य मुझे इल्म नहीं है कि तू मुझसे नाराज़ है

मुझे इल्म नहीं है कि तू मुझसे नाराज़ है

3070
0
Kundan

मुझे इल्म नहीं है कि तू मुझसे नाराज़ है
शायद तेरे गुस्से का यही आगाज़ है

कब नहीं की मैंने तेरी फ़िक्र जो तू खफा है
बिना जताये ख्याल रखना मेरा अंदाज़ है

ख़ामोशी पसर रही है मेरे आसपास इतनी
अब सूनी सूनी से लगती तेरी आवाज़ है

मुझे पता है की मैं मुकम्मल इंसान नहीं हूँ
मुझे भी अपनी कमियों का एहसास है

कोशिशें मेरी जारी है तुझे खुश रखने की
बस तुझसे भी साथ देने की मुझको आस है

कुछ सुर तुम मिलाओ कुछ हम मिलाते हैं
यही तो ज़िंदगी के गीत का साज़ है

तेरे क़दमों के साथ मेरे कदम चलेंगे
मेरीआँखों में हम दोनों के सपनो की परवाज़ है

चाहे चोट लगे या कहीं पर ख़ुशी बरसे
हर कदम पर हम दोनों साथ- साथ है