Home साहित्य खोज ले एक नए लक्ष्य को अपने मन में

खोज ले एक नए लक्ष्य को अपने मन में

750
0
New goals
खोज ले एक नए लक्ष्य को अपने मन में

मुश्किलों से भरी राहों को पार करके
दृढ संकल्प की सीमा को तैयार करके
गतिशील क़दमों से कर धरती का मूल्यांकन
अब छोड़ दे अपना ये व्यर्थ रुपित क्रन्दन
सदुपयोग कर स्वर्णिम समय का अपने जीवन में
खोज ले एक नए लक्ष्य को अपने मन में

तेरी हर राहों में आएंगे भीषण काटें
पर तेरी चरणकमल उसमे विजयपुष्प छाटें
आए धूलों का बवंडर या विपदाओं का तूफान
बस चलते जाना और बढ़ते जाना ही है तेरी शान
तोड़ कर सपनों के तारे ला हकीकत के गगन में
खोज ले एक नए लक्ष्य को अपने मन में

नहीं त्याग जिजीविषा को हो जा अब जीवंत
तेरे दुर्भाग्य का अब होने ही वाला है अंत
सूर्य की उज्जवल किरन से डर रहा देखो तिमिर
कर ले तू सम्मान आज ऊँचा सिर
सांस ले तू अब नई निर्मल पवन में
खोज ले एक नए लक्ष्य को अपने मन में

चीरकर पर्वत को आगे बढ़ेगा शौर्य
शक्ति से संपन्न होगा अब तेरे ह्रदय का धैर्य
नग्न पावों से अंगार शय्या पर चलना है
चहूँ ओर अब विजय गूंज को बजना है
कोमल कलिया खिलानी है तुझे उपवन में
खोज ले एक नए लक्ष्य को अपने मन में