Home साहित्य प्यार में तेरे गजब हो गया

प्यार में तेरे गजब हो गया

251
0
प्यार में तेरे गजब हो गया
प्यार में तेरे गजब हो गया

प्यार में तेरे गजब हो गया
मैं सिर्फ तेरी निगाहों में खो गया

मुझसे न पूछ हाल मेरा क्या
जब भी देखा दीवाना हो गया

हाय रे मुझको तू भा गई,
पत्तो में जैसे नमी छा गई

सहमे सहमे हालात थे मेरे
तुझ बिन अधूरे ख्वाब थे मेरे

जितना चाहा था कभी तुझे
आज वो सरेआम हो गया

मोहब्बत में अपना तो
बड़ा नाम हो गया

पास मेरे आ सामने रहजा
ये सब दिल की ख्वाइश थी

पर जब तू मेरे सामने आई,
चुप रहने की गुजारिश थी

होश मै अपना खो बैठा था
ऐसे थे हालात मेरे मुझ पर काबू न था

दिल के उमड़े थे जज़्बात मेरे
कितने महंगे ख्वाब थे तेरे

रोज मनाया रोज सताया ऐसा मैने प्यार किया
एक दिन भी ना गुजारा तेरे बिन ऐसा तुझको याद किया

आज के लिए बहुत हुई मुलाकात ये हमारी
बोले पंडित सबर रखो आगे भी बहुत है दास्तान मेरी

~ अभिषेक जुयाल पंडित

 

प्रिय पाठकों,

हमारी वेबसाइट www.saanjhibaat.com में आपका स्वागत है। अब आप अपनी कविता, कहानी, विचार, लघु कथा, आलेख आदि सांझी बात पर प्रकाशित कर सकते है। अपनी रचनाओं को ईमेल jaykundan89@gmail.com या WhatsApp Number: 9555729827 के माध्यम से भेज सकते है। वेबसाइट मे रचना प्रकाशित होने पर आपको सूचित किया जायेगा। रचना को प्रकाशन करने का अंतिम निर्णय वेबसाइट ओनर का ही होगा।

हमारी वेबसाइट www.saanjhibaat.com मे रचना प्रकाशित करने की कुछ शर्ते निम्नलिखित है:

1. रचना मौलिक हो रचना भेजने से पूर्व यह सुनिचित करले कि उसमे व्याकरण एवं मात्राओं की गलती न हो।

2. इंटरनेट की किसी भी अन्य वेबसाइट मे प्रसारित लेख स्वीकार नहीं किया जायेगा।

3. हमारी वेबसाइट मे आप के प्रकाशित रचनाओं का कोई शुल्क या आर्थिक भुगतान नहीं किया जायेगा।