Home साहित्य रब ने दिया है सबको बराबर मौका

रब ने दिया है सबको बराबर मौका

285
0
High School Sirauna Sun Set
रब ने दिया है सबको बराबर मौका

रब ने दिया है सबको बराबर मौका
वो इंसान पर है कि कैसे ज़िन्दगी सँवारे

एक चिड़िया दाना चुगती है पेड़ पर
और दूसरी पिंजरे में ज़िन्दगी गुज़ारे

किसी ने बिना सोचे समझे फैसले लिए
कोई सालों तक एक कदम भी न उठाए

कुदरत तो अपना काम करती है
पर तुमने क्यों अपने रास्ते हटाए

कौन है जो ज़िन्दगी में मुश्किल नहीं देखता
तुम हो कि पहले कदम से ही घबराए

जो लोग गुमान से आस्तीन चढ़ाए जाते थे
वक़्त ने हर बार उनके सारे नशे उतारे

क्या मुकाम मिला ये तो पता नहीं
मगर इंसान अब खुद को कहाँ तलाशे

ये शोर तो लगातार बढ़ता रहेगा
ख़ामोशी की दवाई कौन लेकर आए

ख़ुशी होती है कि कुछ लोग हैं आंसू बहाने को
वरना तो लोग देखकर कन्नी काट जाते

जा रहा हूँ ये सोचकर कि कहीं ठहराव मिलेगा
ज़िन्दगी के थपेड़े अब सहे नहीं जाते