Home साहित्य सांसें उखड़ रही है… भाग -1

सांसें उखड़ रही है… भाग -1

356
1
life struggle

सांसे उखड़ रही है वक्त से पहले
उम्र भी पहले ही खत्म हो रही है

जिंदगी को बचाने की जद्दोजहद है
आस भी जीने की कम हो रही है

सोचा था कुछ पल फुरसत के जियूंगा
अब वो ख्वाहिशें भी दम तोड रही है

कैसे खुशी के समा को बनाए रखूं
वक्त की हर आहट गम छोड़ रही है

चेहरे से तो उसके भोलापन झलकता था
मगर हरकतें उसकी भरम तोड़ रही है

लिहाज़ कौन करता है, सब बेअदब हैं
सामने खड़े होने में भी शर्म हो रही है

ठंडी सांसें आजकल मौत का इशारा है
मगर बीमार होने पर सांसे गर्म हो रही है

कभी खामोखा मैं अपनी जीस्त से खेला
अब बदन में ताकत कुछ कम हो रही है

Comments are closed.