Home साहित्य संभलना जरा उस से नजरें बचाकर

संभलना जरा उस से नजरें बचाकर

189
1
Cheating Girl
संभलना जरा उस से नजरें बचाकर

संभलना जरा उस से नजरें बचाकर
कहीं बेवकूफ ना बना दे खूबसूरती दिखा कर

आंखों ने बहुत धोखे दिए हैं मेहरबान
कभी नजरें मिलाकर कभी नजरें झुकाकर

बस दूर से ही उसको प्रणाम करना भाई
वरना कहीं का नहीं छोड़ेगी जाल में फंसाकर

वो मुस्कुराहट तो तबियत से जहर मालूम होती है
नालायक बना देगी तुम्हे वो थोड़ा सा मुस्कुराकर

अगर एक बार जेब से पैसा उड़ा दिया तुमने
भरेगी नहीं नीयत फिर भी सारी कमाई लुटाकर

आज़ादी तो पहली मुलाकात में ही जमींदोज होगी
रही सही कसर पूरी होगी अपना गुलाम बनाकर

बेशक शादी की मिठाई बहुत मीठी है यारों
शुगर लेवल न बढ़ जाए कहीं थोड़ा सा खाकर

कुछ तुम्हारा नहीं रहता सिर्फ माफी मांगने के सिवा
गलत न होने पर भी रहते हैं मर्द नजरें झुकाकर

Comments are closed.