Home साहित्य चल उस जगह जहाँ सपनो को आकार मिले

चल उस जगह जहाँ सपनो को आकार मिले

840
0
man slowly walking
चल उस जगह जहाँ सपनो को आकार मिले

चल उस जगह जहाँ सपनो को आकार मिले
यूँ घुटे हुए अरमानो को आवाज़ मिले

कौन घबराता है ज़िन्दगी की मुश्किलों से
हम तो चाहते हैं कोशिशों को रफ़्तार मिले

अब तो सिर्फ खुद पर भरोसा है हमको
बाकी तो सब हमें होशियार मिले

कौन कहता है कि कहीं मेरी ठौर नहीं
संघर्ष से हथेली में संसार मिले

आज़माने को तो कितने लोग हैं पास में
साथ चलने को सिर्फ एक दो यार मिले

जो वक़्त से जी चुराता है उनका हश्र भी देखा
वो लोग किसी अँधेरी गली में बर्बाद मिले

मंद है अक्ल तो तालीम से बढ़ाओ
हुनर को इरादों से परवाज़ मिले

जिरह होती है मेरी मुश्किलों से रोज़
इनसे ही ज़िन्दगी के तज़ुर्बे तैयार मिले

आबोदाना कौन नहीं चाहता है मेरे दोस्त
पर नहीं मिले तो बसंती बयार मिले

जिस मुकाम पर मैंने सोचा की लडूंगा
उसी मोड़ पर हौसले आज़ाद मिले

बेसुरी तान ने ज़िन्दगी का रिदम बिगाड़ा
सुरमई साथ से कई साज़ मिले