Home साहित्य रूह से रूबरू

रूह से रूबरू

382
1
Spiritually
रूह से रूबरू

यूं किसकी फिराक में रहता है दिल
रूह से रूबरू होता तो बाहर नहीं भटकता

तेरा घूंघट चेहरे की हिफाज़त करता है
बहुत कोशिशों पर भी नीचे नहीं सरकता

चट्टानी इरादों से मजिलें पास आ जाती हैं
करने की ज़िद हो तो काम नहीं लटकता

रुकता वही है जिसके पैर लड़खड़ा जाएं
अपना मंसूबा तो कभी ऐसे नहीं अटकता

खुद के हाथों से अपनी दास्तां लिखो यारों
ताने देता है ज़माना मगर तुमको नहीं समझता

जब हमकदम साथ छोड़े तो तकलीफ होती है
औरों की बदमिजाजी से दिल नहीं अखरता

वो शुरुआत नहीं करते और तुम भी नहीं झुकते
गुरूर से कभी कोई मसला नहीं सुलझता

खुशनसीब हो कि तुम खुदा की जद में आ गए
वक्त ऐसे ही किसी को बेवजह नहीं परखता

Comments are closed.