बेमन की नौकरी

Desire for freedom

रोज सुबह घर से बेमन निकलता हूं
गाड़ियों के धुएं और धूप में झुलसता हूं
कड़कड़ाती सर्दियों में बिना डरे चलता हूं
कितनी बरसाते हों फिर भी काम करता हूं

नौकरी के लिए खुद को मारना पड़ता है
अपनी खुशियों और इच्छाओं को टालना पड़ता है
तुम्हे क्या पता बेमर्जी का काम करने में कैसा लगता है
ये ऐसा ही है जैसे दिन निकलता है और सूरज ढलता है

क्या सिर्फ नौकरी करना और पैसे कमाना ही जिंदगी है
अगर यही जिंदगी है तो कैसी जिंदगी है
सपनो की बात मत करो वो अब नींद में भी नहीं आते
सोए रहते हैं हम सब और खुद को नहीं जगाते है

मैं आज़ादी चाहूं तो लोग पीछे खींचते हैं
मेरे फैसलों सुनकर अपने होंठ भींचते हैं
हर दिन इस नीरसता का जहर पीता हूं
मन भरा हुआ हैं समंदर से और बाहर से रीता हूं

जिम्मेदारियों का भार उठाते उठाते कमर टूट गई
अपने सफर की गाड़ी भी इसी तरह छूट गई
सभी को यहां पर गुलामी का शौक है
करते रहो आखिर सलामी का दौर है
ज़मीर भी पता नहीं कहां सड़ गल रहा है
ए दिल तू काहे फिर पचड़े में पड़ रहा है

बहरे लोग और अंधी दीवारें हैं
जिंदगी के बाड़े में कंटीली तारें हैं
आज़ादी का नाम लिया तो सजा होगी
मुंह खोलना भी अब यहां खता होगी

कितनी भी कोशिशें करो सांस भारी रहेगी
जब पहले से ही मरने की तैयारी रहेगी
बस खुद से उम्मीद का गुमान है
मैं साथ हूं खुद के बस इतना इत्मीनान है

About the Author

admin

सांझी बात एक विमर्श बूटी है जीवन के विभिन्न आयामों और परिस्थितियों की। अवलोकन कीजिए, मंथन कीजिए और रस लीजिए वृहत्तर अनुभवों का अपने आस पास।

You may also like these