कुछ एहसास आज भी बाकी है

Feelings

दिल के कोने में कुछ एहसास आज भी बाकी है
कुछ ख्वाबों के मुकम्मल होने की तलाश आज भी बाकी है

कुछ बातें तो अनकही और कुछ कहकर भी अधूरी हैं
उन बातों का सिलसिला आज भी बाकी है

रात में बदलती हुई करवटों के बीच ही सही
पलकों के चिलमन में समाए कुछ ख़्वाब आज भी बाकी है

उम्र के बदलते पड़ाव पर ज़िम्मेदारियों के जो पहलू हैं
उनसे मांगकर कुछ वक्त उधार,
बचकानी उलझनों को जीना आज भी बाकी है

कुछ कहे अनकहे एहसासों के एहसास से
दिल का संभल पाना आज भी बाकी है

अपने तो बहुत हैं इस बात से कब इंकार है
मगर कुछ अपनों में अपनापन ढूंढ पाना आज भी बाकी है

वैसे तो है हम तनहा लाखों की भीड़ में भी
पर तनहाई में खुद को तलाश पाना आज भी बाकी है
दिल के कोने में कुछ एहसास आज भी बाकी है

~ निशा बलूनी

About the Author

admin

सांझी बात एक विमर्श बूटी है जीवन के विभिन्न आयामों और परिस्थितियों की। अवलोकन कीजिए, मंथन कीजिए और रस लीजिए वृहत्तर अनुभवों का अपने आस पास।

You may also like these