सिंहासन वही है जिसमे भगवाधारी आए हैं

Narendra Modi ji and Yogi Aditya Nath ji

जिनके कदमों ने हिम्मत की है बढ़ने की
फिर मंजिलों के निशान मिल ही जाते हैं

श्रीराम और भारत माता का गीत गाते हैं
दो संत अपनी राष्ट्रभक्ति का अलख जगाते हैं

कौन है जो सामने बोलने का दम रखता है
पीछे से तो चूहे के भी पर निकल आते हैं

बड़े बड़े दावे करके गुंडई करने चले थे
फैसले के दिन तो होश फाख्ता हो जाते है

टूटी हुई साइकल पड़ी रो रही है
बुलडोजर के धमाके से पुर्जे निकल जाते हैं

अपने पालनहार को भी इस्तेमाल किया
टोंटी चोरी को अपनी शान बताते हैं

हार को स्वीकार करके विनम्र रहना सीखो
वरना घमंड के बादल सूरज से बिखर जाते हैं

स्वागत है आपका जूतों की माला से
बाकी आपके मुंह पर कालिख पोत जाते हैं

तुम अखिल जाति का ईश्वर बने बैठे थे
जनता की मार से तुम्हारे अब गाल सूज जाते हैं

कभी किसी संत का अपमान मत करना
वरना नर्क में भी तुम्हारे रिश्ते नाते हैं

नंगा था समाजवाद बस नमाज़ी बनकर बैठे थे
भगवा के लहराने से होश उड़ जाते हैं

नफरती कलमा और फतवा पढ़कर आते थे
अब वही जय श्री राम के जय घोष पर थरथराते हैं

पहले तो अपने परिजनों और जात का राज था
अब धर्मनिस्ठ कर्म योगी का परचम लहराते हैं

सत्ता के मद में तो बौने हो गए सभी नेता मगर
सिंहासन वही है जिसमे भगवाधारी आए हैं

About the Author

admin

सांझी बात एक विमर्श बूटी है जीवन के विभिन्न आयामों और परिस्थितियों की। अवलोकन कीजिए, मंथन कीजिए और रस लीजिए वृहत्तर अनुभवों का अपने आस पास।

You may also like these