भूख सर्दी से कम नहीं

वो ठिठुरता हुआ कूड़ा बीनता है सर्दी में
उसे पता है कि भूख सर्दी से कम नहीं

कहां सुनवाई होती है गरीब की यहां पर
उनका दर्द समझ पाएं इतना गुर्दे में दम नहीं

मजदूर के हाथों से धरती में सोना उगता है
ये जगजाहिर सच्चाई है, कोई भरम नहीं

पैर फट गए उसके रिक्शा चलाते चलाते
और मोल भाव करने में हमको जरा भी शर्म नही

उसकी ख्वाहिश अपने परिवार का भरण पोषण है
सोने को एक पुरानी दरी है, कोई मखमल नहीं

दुखों को झेलकर अपनी हिम्मत खुद जुटाता है
दिल में बहुत दर्द है मगर आंखें उसकी नम नहीं

अपनी मेहनत से वो खेतों पर खुशहाली लाता है
खुद्दार है देश का कृषक, नेताओं सा बेशर्म नहीं

About the Author

admin

सांझी बात एक विमर्श बूटी है जीवन के विभिन्न आयामों और परिस्थितियों की। अवलोकन कीजिए, मंथन कीजिए और रस लीजिए वृहत्तर अनुभवों का अपने आस पास।

You may also like these