किसे शौक था गाँव से बिछड़ने का

Sirauna

किसे शौक था गाँव से बिछड़ने का
बस रोटी की लाचारी थी जो शहर आ गए

अपनी मिटटी के सौंधी सुगंध बड़ी प्यारी थी
अब तो आस पास धुंए के ज़हर आ गए

कच्ची पगडंडियों पे चलने का सुकून था
यहाँ सड़कों पर कदम लड़खड़ा गए

वो गलियां, चौपाल और मोहल्ले की बतकही
तुम्हे क्या बताएं हम कहाँ आ गए

वो पेड़ों की छाँव और कड़कती धूप
उन नज़ारों को छोड़कर यहाँ आ गए

ज़हन से उतरता नहीं मेरे घर का आंगन
इस शहर के मकान में सब भुला गए

मेरा दिल तो मेरे गाँव में बसता है
ख़ामख़ा बस पत्थर तोड़ने यहाँ आ गए

About the Author

admin

सांझी बात एक विमर्श बूटी है जीवन के विभिन्न आयामों और परिस्थितियों की। अवलोकन कीजिए, मंथन कीजिए और रस लीजिए वृहत्तर अनुभवों का अपने आस पास।

You may also like these